अपने जीवन में अपनाये यह असान आयुर्वेद के नियम और रहें निरोगी By Rajiv Dixit

हर कोई अपने शरीर को सुन्दर और स्वास्थ बनाए रखना जाहता है, और इस के लिए कई लोग सुबह- सुबह व्ययाम (Morning Walk) भी करते है और कुछ लोग GYM वगेरा भी जातें है पर आज हम आप को बताने जा रहें है कुछ एसे असान नियमो के बारे मे जो आप अपनी रोज मर्रा की जीवन सेली में असानी से अपना सकतें है और अपने जीवन को स्वास्थ और निरोगी बना सकतें है

मित्रो आप इन नियमो का पालन पूरी ईमानदारी से अपनी ज़िंदगी मे करे, ये नियमो का पालन न करने से ही बीमारियाँ ज़िंदगी मे ज्यदा जल्दी आती है|

तो आइये जाने आयुर्वेद के निरोगी रहने के नियम

सुबह उठते ही सबसे पहले हल्का गर्म पानी पिये 2 से 3 गिलास जरूर पिये पानी हमेशा बैठ कर पिये
पानी हमेशा घूट घूट करके पिये

घूट घूट कर इसलिए पीना चाहिए ताकि सुबह की जो मुंह की लार है इसमें ओषधिए गुण बहुत होतें है  ये लार पेट मे जनि चाहिए वो तभी संभव है जब आप पानी बिलकुल घूट घूट कर कर पिए और मुंह मे घूमा कर पिएंगे !

इसके बाद दूसरा काम पेट साफ करने का है रोज पानी पीकर सुबह शोचालय जरूर जाये पेट का सही ढंग से साफ न हो पाना 108 किस्म की बीमारियो की जड़ है !

खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीना जहर पीने के बराबर होता है, इसलिए हमेशा एक से डेड घंटे बाद ही पानी पीएं !

खाना खाने के बाद अगर कुछ पी सकते हैं तो उसमे तीन चीजे आती हैं !

1) जूस
2) छाज (लस्सी) या दहीं
3) दूध

सुबह खाने के बाद अगर आप कुछ पीना चाहतें है तो हमेशा जूस पिये !
दोपहर को दहीं खाये! या लस्सी पिये
और दूध हमेशा रात को पिये !!

इन तीनों के क्रम को कभी उल्टा पुलटा न करे फल सुबह ही खाएं (ज्यादा से ज्यादा दोपहर 1 बजे तक ) ! दहीं दोपहर को और दूध रात को ही पिये!

इसके इलावा खाने के तेल मे भूल कर भी Refined Oil का प्रयोग मत करे (वो चाहे किसी भी कंपनी का क्यू न हो dalda ,ruchi,gagan) को भी हो सकता है !

अभी के अभी घर से निकाल दें बहुत ही घातक होता है यह Refined Oil

सरसों के तेल का प्रयोग करे या देशी गाय के दूध का शुद्ध घी खाएं शुद्ध सरसों के तेल की पहचान है मुंह पर लगाते ही एक दम जलेगा और खाना बनाते समय आंखो मे हल्की जलन होगी !

चीनी का प्रयोग तुरंत बंद कर दीजिये इसकी जगह गुड खाना का प्रयोग करे ! या शक्कर खाये ! चीनी बहुत बीमारियो की जड़ इसे धीमा जहर (slow poison) भी कह सकतें है

खाने बनाने मे हमेशा सेंधा नमक या काला नमक का ही प्रयोग करे आयोडिन युक्त नमक कभी न खाएं ! (ये नमक वाली बात आपको अजीब लग सकती हैं ! लेकिन बहुत रहस्यमय कहानी है इस आओडीन युकत नमक के पीछे ) कभी  बाद मे विस्तार से बताई जाएगी (आयोडिन युक्त नमक की सचाई)!

सुबह का भोजन सूर्य उद्य होने के 2 से 3 घंटे तक कर लीजिये (अगर 7 बजे आपके शहर मे सूर्य निकलता है ! तो 9 या 10 बजे तक सुबह का भोजन कर लीजिये इस दौरान जठर अग्नि सबसे तेज होती है ! सुबह का खाना हमेशा भर पेट खाएं ! सुबह के खाने मे पेट से ज्यादा मन संतुष्टि होना जरूरी है ! इसलिए अपनी मनपसंद की वस्तु सुबह सुबह खाएं !

खाना खाने के तुरंत बाद ठीक 20 मिनट के लिए बायीं तरफ से लेट जाएँ और अगर शरीर मे आलस्य ज्यादा है तो 40 मिनट मिनट आराम करे ! लेकिन इससे ज्यादा नहीं !

इसी प्रकार दोपहर को खाना खाने के तुरंत बाद ठीक 20 मिनट के लिए बायीं तरफ लेट जाएँ और अगर शरीर मे आलस्य ज्यादा है तो 40 मिनट आराम करे ! लेकिन इससे ज्यादा नहीं !

रात को खाना खाने के तुरंत बाद नहीं सोना चाहिए रात को खाना खाने के बाद बाहर सैर करने जाएँ  कम से कम 500 कदम तक सैर करे और रात को खाना खाने के कम से कम 2 घंटे बाद ही सोएँ !

ब्रह्मचारी है (विवाह के बंधन मे नहीं बंधे ) तो हमेशा सिर पूर्व दिशा की और करके सोएँ !
ब्रह्मचारी नहीं है तो हमेशा सिर दक्षिण की तरफ करके सोएँ !
उत्तर और पश्चिम की तरफ कभी सिर मत करके सोएँ !

मैदे से बनी चीजें पीज़ा, बर्गर, hotdog, पूलड़ोग, आदि न खाएं ये सब मेदे को सड़ा कर बनती है ! कब्ज का बहुत बड़ा कारण मेदा है और ऊपर आपने पढ़ा कब्ज से 108 तरहां के रोग होते हैं |

इन सब नियमो का अगर पूरी ईमानदारी से प्रयोग करेंगे तो 1 से 2 महीने मे ऐसा लगेगा की आपकी पूरी जिंदगी ही बदल गई है ! मोटापा है तो कम हो जाएगा ! high BP, cholesterol, triglycerides, सब level पर आना शुरू हो जाएगा ! HDL बढ्ने लगेगा ! LDL ,VLDL कम होने लगेगा ! और भी बहुत से बदलाव आप अपने शरीर में देखेंगे !

ऊपर लिखी सारी बातों को एक एक कर विस्तार से समझने के लिए यह विडियो देखें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares