Fair & Lovely क्रीम का सच

क्या सच मे गोरापन लाती है ये fair & lovely क्रीम ?

दोस्तो अगर fair & lovely से गोरापन आता तो ये अफ्रीका वाले काले क्यूँ होते? ये भी तो fair & lovely क्रीम लगाकर गोर हो जाते, (USA) अमेरिका के राष्ट्रपति बाराको बामा क्या ये क्रीम लगाकर गोरापन नहीं पा सकते थे?
एक बात हमेशा याद रखे दुनिया मे fair & lovely लागने से कोई भी आदमी गोरा हुआ नहीं और आगे होने की कोई संभावना भी नहीं है|fair-lovely-cream-ka-sach-truth,fair-lovely-cream-ka-sach

क्या है गोरा और काला होने का सिद्धांत

गोरा और काला होने का सिद्धांत बहुत ही अलग है ! हमारे रक्त (Blood) मे एक कैमिकल होता है उसका नाम है Melanin जब Melanin की मात्रा बढ़ जाती है तो शरीर काला पड़ जाता है और जब Melanin की मात्रा कम हो जाती है तो शरीर गोरा हो जाता है ! और जब Melanin की मात्रा न बढ़ती है न कम होती है तो शरीर सांवला हो जाता है ! हम सब हिन्दुस्तानी साँवले है क्यूंकि Melanin की मात्रा न ज्यादा है न कम ! और आदर्श (Prefect) स्थिति यही होती है.

एक अंग्रेज़ ने किया था भारत के राष्ट्रपति से एक सवाल काले होने पर

हमारे देश मे एक राष्ट्रपति थे डा. राधा कृष्णन ! वो एक बार लंदन गए वहाँ अंग्रेज़ पत्रकारो ने उन्हे चिढ़ाने के लिए एक सवाल पूछा !

आप हिन्दुस्तानी काले क्यूँ होते है ?

तो डाक्टर राधा कृष्णन जी ने इतना सुंदर जवाब दिया वो आप सबको देना !
उन्होने कहा हम हिन्दुस्तानी काले नहीं होते कुछ और होते है !
अंग्रेज़ ने पूछा तो क्या होते है ?
डाक्टर राधा कृष्णन ने एक कहानी सुनाई !
उन्होने ने कहा भगवान जी ने रोटी बनाई और वो कच्ची रह गई वो सब खाकर तुम सब अंग्रेज़ पैदा हुए!
भगवान जी ने फिर एक रोटी बनाई वो जल गई उसको खाकर ये अफ्रीकी पैदा हुए !
और फिर भगवान जी ने तीसरी रोटी बनाई वो न जाली न कच्ची रही बराबर सिकी उसको खाकर हम हिन्दुस्तानी पैदा हुए !
तो हम लोग काले नहीं साँवले है और आज विज्ञान ने भी स्वीकार कर लिया है कि साँवले रंग वालों को त्वचा का कैंसर होने की संभावना सबसे कम होती है ! कारण क्या है खून मे Melanin की मात्रा सबसे Perfect हमारी ही है ! इसलिए अपने साँवले होने पर हमें गर्व है इसे हीन भावना से मत देखो !

हम गोरे होकर करेगे क्या

हम गोरे होकर करेगे क्या जब हमारे भगवान शंकर जी साँवले, भगवान राम साँवले, भगवान कृष्ण साँवले तो हम गोरे होकर करेंगे क्या  हम तो साँवले ही अच्छे और जब ये बात मन मे बैठ जाये कि हम तो साँवले ही अच्छे है तो फिर ये fair & lovely की जरूरत क्या ?

इस विज्ञापन से क्या बीतता है काली (साँवली) माँ ,बहन और बेटियो पर

दोस्तो जब ये विज्ञापन बार – बार tv पर आता है न कि fair & lovely लगाओ आप दो दिन मे गोरे हो जाओगे 3 दिन मे हो जाओगे 1 महीने मे गोरे हो जाओगे तो इसको देख भारत की करोड़ो काली माँ ,बहन, बेटियो की छाती पर आरी चलती है आप इसको महसूस करो !
आप तो जानते हैं हमारा हिंदुस्तान तो 121 करोड़ की आबादी वाला देश है और उसमे 50 करोड़ तो माताए बहने हैं और उनमे से 40 से 45 करोड़ मताए, बहने या तो काली है या साँवली है ! उनके दिलो पर कटार चलती है जब वो ये विज्ञापन देखती है ! हाय रे हाय गोरेपन की क्रीम fair lovely और फिर उन माताओ बहनो को लगता है कि गोरे होने से ही जिंदगी सवर्ती है और आपको जानकार हैरानी होगी कई बहनो ने सिर्फ इस बात के कारण आत्म ह्त्या कर लेती है कि काले रंग के कारण उनकी शादी नहीं हो पा रही थी !

fair & lovely के खिलाफ़ मद्रास हाईकोर्ट में केस मे खुलासा क्या है क्रीम मे ?

राजीव दीक्षित जी का एक दोस्त था तमिलनाडु मे रहता था राजीव दीक्षित जी और उनका दोस्त  जो होस्टल में उनके साथ पड़ता था । वो 12 साल से fair and lovely लगा रहा था । फ़िर भी उसका रंग काला का काला ही था, राजीव दीक्षित जी ने उससे पूछा की तुम ये fair and lovely कब से लगा रहे हो उसने बताया होस्टल में आने से पहले भी 8 साल से लगा रहा है ।राजीव भाई ने कहा कभी तो तु सुधरेगा । तो उसने कहा कल से fair and lovely बंद । राजीव भाई ने पूछा तेरे पास fair and lovely ख़रीदने का बिल है । उनसे
कुछ बिल निकाल कर दिये । जिसके आधार पर उन्होने मद्रास हाईकोर्ट में केस दर्ज कर दिया । पहले तो जज ने कहा मेरे घर में भी यही समस्या है लेकिन उसने बहुत सुंदर जजमेंट दिया ! कंपनी के अधिकारियो को वहां जाना पड़ा । जज ने पूछा । कि आपने इसमे क्या मिलाया है । जो काले को गोरा बना देती है । उन्होने बोला जी कुछ नहीं मिलाया । तो जज ने पुछा ये बनती कैसे है । तो उन्होने कहा( सूअर की चर्बी के तेल से )

क्या कीमत है fair and lovely क्रीम की

देश के पढ़े लिखे गवार विज्ञापन देख आपने मुँह पर सुअर की चर्बी का तेल थोप रहे है । और अपने आप को बहुत होशियार समझ रहे है !और यह कितनी महंगी है !

25 ग्राम 40 रुपए की
मतलब 50 ग्राम 80 रूपये की
और 100 ग्राम 160 रूपये की !
मतलब 1600 रूपये की 1 किलो !

देश के पढे लिखे ग्वार लोग 1600 रूपये किलो का सूअर की चर्बी का तेल मुह पर थोप रहे हैं लेकिन 400 -500 रूपये किलो बादाम या काजू नहीं खा रहे !

असली सुंदरता क्या है ?

मित्रो असली सुंदरता fair and lovely मे नहीं है सुंदरता क्रीम पाउडर या लिपस्टिक में नहीं होती है, असली सुंदरता व्यक्ति के गुण कर्म और सुभाव में होती है, न की किसी क्रीम मे हमारे देश मे जब कोई व्यक्ति मर जाता है तो लोग उसको यह कहकर याद नहीं करते की वो कितना गोरा था या कितना काला था, बलकी ये कहकर याद करते है की वह व्यक्ति कितना गुणी था कितना कर्मठ था कितना आच्छे सुभाव का था कितना बड़ा देश भक्त था आपके गुण अच्छे है कर्म अच्छे है सुभाव अच्छा है तो आप बहुत सुंदर है ये ही है आप की असली सुंदरता |
ज्यादा जानकारी के लिए आप यह विडिओ देखें:

Leave a Reply